Business Idea

आज ही शुरू करें यह बिजनेस, हर महीने होगी बंफर कमाई

आज के समय में भारत में व्यावसायिक मुर्गी पालन पर चर्चा करने से पहले, आइए हम आपको बताएं कि मुर्गी पालन का मतलब क्या है ! आम तौर पर, मुर्गी पालन का मतलब अंडे और मांस जैसे खाद्य पदार्थों के उत्पादन के उद्देश्य से विभिन्न प्रकार की मुर्गियों को पालना है

देश में अंडा और मांस का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है. ऐसे में किसान कम जगह और कम खर्च में व्यावसायिक तौर पर बटेर पालन शुरू करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं ! व्यवसायिक मुर्गी पालन के बाद मुर्गी पालन के बाद बत्तख पालन और तीसरे स्थान पर जापानी बटेर पालन आता है

सर्दी हो या गर्मी लोग अंडे का सेवन जरूर करते हैं ! भारत में इसकी खपत साल भर रहती है ! पोषण से भरपूर अंडा शरीर को स्वस्थ बनाने में बहुत मददगार होता है ! 

अंडे की मांग बढ़ती जा रही है

तो अंडा ही उनकी सेहत को बिगड़ने से बचा रहा है ! सितंबर से इसका बाजार गति पकड़ता है और जून तक बाजार में अंडे की मांग बढ़ जाती है ! भारत में ज्यादातर लोग अंडे का सेवन सर्दियों में करते हैं,

अब अगर हमें मुर्गियों से अंडे का अच्छा उत्पादन चाहिए तो हमें उनकी देखभाल पर भी कुछ पैसे खर्च करने होंगे. इसमें सफाई, टीकाकरण और चिकन फ़ीड की लागत भी शामिल है ! एक मुर्गी अंडे देने के लिए प्रतिदिन 110 ग्राम अनाज खाती है

मुर्गियों की देखभाल कैसे करें

एक मुर्गी अपने 72 सप्ताह के व्यावसायिक जीवनकाल में 360 अंडे देती है ! ये मुर्गियां 2 से 3 साल तक जीवित रहती हैं, लेकिन जब अंडे नहीं बनते तो इनका उपयोग मांस के रूप में किया जाता है ! इस तरह यात्रा करते हुए भी ये मुर्गियां पोल्ट्री व्यवसाय में सफल हो जाती हैं.

एक मुर्गी 1 साल में 360 अंडे देती है

एक मुर्गी अपने 72 सप्ताह के व्यावसायिक जीवनकाल में 360 अंडे देती है ! ये मुर्गियां 2 से 3 साल तक जीवित रहती हैं, लेकिन जब अंडे नहीं बनते तो इनका उपयोग मांस के रूप में किया जाता है ! इस तरह यात्रा करते हुए भी ये मुर्गियां पोल्ट्री व्यवसाय में सफल हो जाती हैं.

एक मुर्गी 1 साल में 360 अंडे देती है

एक अनुमान के मुताबिक मुर्गी पालन के लिए मुर्गियां खरीदने की बजाय चूजे खरीदने चाहिए. एक चूजे की कीमत करीब 5 रुपये है, जिसका वजन 35 ग्राम है. अगले चार महीने तक चूजों की देखभाल करनी होती है ! इस बीच ये 3 किलो तक अनाज खा जाते हैं.

जबकि पोल्ट्री फार्म में मुर्गियों से एक अंडा तैयार करने की लागत 3.50 रुपये से लेकर 4 रुपये तक होती है ! इसमें मुर्गियों को खाना खिलाना, उनकी देखभाल आदि शामिल है, लेकिन वही अंडा बाजार में 5 रुपये से लेकर 5 रुपये तक की कीमत पर बेचा जाता है !

हर महीने होगी बंफर कमाई

आम देसी मुर्गियों के अलावा कड़कनाथ अंडे 30 रुपये प्रति पीस बिकते हैं. एक अनुमान के मुताबिक 10,000 लेयर पक्षियों के साथ पोल्ट्री फार्म शुरू करके एक महीने में 3 लाख रुपये तक की कमाई की जा सकती है