महिलाए आटा गुथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती है | GK In Hindi General Knowledge

महिलाए आटा गुथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती है | GK In Hindi : हर घर में रोटी बनाने के लिए आटा गूंथा जाता है ! लेकिन महिलाएं आटा गूंथने के बाद उसमें अपनी उंगलियों से निशान बना देती हैं ! निशान बनाने के लिए गूंथे हुए आटे में उंगलियों को दबाया जाता है, जिससे निशान बन जाता है ! आमतौर पर हम इसे एक साधारण प्रक्रिया मानते हैं ! लेकिन ऐसा नहीं है इसके पीछे एक खास मान्यता है !

महिलाए आटा गुथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती है | GK In Hindi

महिलाए आटा गुथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती है

महिलाए आटा गुथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती है

हर घर में रोटी बनाने के लिए आटा लगभग रोजाना ही गूंथा जाता है ! महिलाएं रोटी, पराठा और पूड़ी बनाने से कुछ देर पहले आटा गूंथ लेती हैं ! ताकि आटा अच्छे से सेट हो जाये ! भले ही महिलाएं अपनी रेसिपी के अनुसार आटे में अलग-अलग सामग्रियां मिलाती हैं, लेकिन उनके गूंथे हुए आटे में एक चीज आम होती है और वह है कि आटा गूंथने के बाद वे उस पर अपनी उंगलियों से निशान बना देती हैं ! क्या आपने कभी सोचा है कि महिलाओं के ऐसा करने के पीछे क्या कारण है?

General Knowledge आटे का संबंध पिंडदान से है

वेदपाठी आचार्य आलोक अवस्थी के अनुसार ऐसा करने के पीछे एक खास कारण है, जो पिंडदान से जुड़ा है ! हिंदू धर्म में पितरों की आत्मा की शांति के लिए पिंडदान किया जाता है ! पिंडदान करने से पितरों को स्वर्ग की प्राप्ति होती है ! आटे या चावल से बने पिंड का संबंध चंद्रमा से माना जाता है और माना जाता है कि चंद्रमा के माध्यम से ही पिंड पितरों तक पहुंचता है ! इसलिए पिंडदान करते समय आटे या चावल की लोई बनाई जाती है ! ऐसा माना जाता है कि जब इस तरह से पिंडदान किया जाता है तो पितर किसी न किसी रूप में आकर उसे स्वीकार कर लेते हैं !

इसलिए हम उंगलियों के निशान बनाते हैं

चूँकि आटे की लोई हमारे पूर्वजों का भोजन मानी जाती है इसलिए यदि हम इसका सेवन करेंगे तो पाप लगेगा ! इस पाप से बचने के लिए महिलाएं आटा गूंथकर उसकी लोई बनाकर उस पर अपनी उंगलियों से निशान बना देती हैं, ताकि खाना खाने योग्य बना रहे ! इतना ही नहीं, बाटी, बाफले, बालूशाही आदि आटे के अन्य पकवानों के लिए आटे की लोइयां या लोइयां बनाते समय महिलाएं उसमें उंगली से छोटा सा गड्ढा भी बना देती हैं ! ताकि यह पिंडदान के आटे की लोई बनकर न रह जाए !

महिलाए आटा गुथने के बाद उस पर उंगलियों से निशान क्यों बनाती है पूर्वजों से संबंध GK In Hindi

शास्त्रों के अनुसार ऑटो पर उंगलियों के निशान बनाने का कारण पिंडदान से जुड़ा है ! हिंदू धर्म में पितरों की आत्मा की शांति के लिए पिंडदान करने का प्रावधान है ! मान्यता है कि पिंडदान करने से पितरों को स्वर्ग की प्राप्ति होती है ! आटे या चावल से बने पिंड का संबंध चंद्रमा से होता है और इससे जुड़ी एक मान्यता यह भी है कि चंद्रमा के माध्यम से ही पिंड पितरों तक पहुंचता है ! यही कारण है कि पिंडदान के दौरान आटे या चावल की पिंडी बनाकर पितरों को भेजी जाती है !

इसलिए हम उंगलियों के निशान बनाते हैं GK In Hindi General Knowledge

चूँकि आटे की लोइयां पितरों का भोजन मानी जाती हैं ! ऐसे में इससे बनी रोटी खाने से हमें पाप लग सकता है ! इस पाप से बचने के लिए महिलाएं आटा गूंथने के बाद उसकी लोई बनाकर उस पर अपनी उंगलियों के निशान बना लेती हैं, ताकि लोई हमारे खाने योग्य बन जाए ! इसके अलावा अक्सर बाटी, बाफले या बालूशाही जैसे गोल बर्तनों पर उंगलियों के निशान से गड्ढा बना दिया जाता है, ताकि वह पिंडदान के लिए इस्तेमाल किए गए आटे की लोई जैसा न लगे और हम पाप से बच सकें !

बिजली की तारों पर बैठे पक्षियों को करंट क्यों नहीं लगता | GK In Hindi General Knowledge

रेल की पटरियों पर जंग क्यों नहीं लगता है | यहाँ जानें GK In Hindi General Knowledge

जब सूर्य से आने वाला प्रकाश सफेद तो परछाई काली क्यों होती है | GK In Hindi General Knowledge

क्या कारण है की रेल की पटरियों के बीच खाली जगह छोड़ी जाती है, कारण जानकर चौक जायेगे आप, जानें GK

गांव में चलने वाले टॉप 6 बिजनेस आईडिया Post Office में हर महीने 3,000 जमा करने पर 2 साल में मिलेगा रिटर्न शुरू करें ये बिजनेस, लागत से पांच गुना ज्यादा होगी कमाई 20000 हजार में शुरू करे धमाकेदार बिजनेस, होगी 1 लाख की कमाई Post Office की तगड़ी स्कीम 3 हजार रुपये जमा करें मिलेंगे 10 लाख