Train के डिब्बे पर बनी white और Yellow लाइन क्यों होता है, यह जानें | GK In Hindi General Knowledge

Train के डिब्बे पर बनी white और Yellow लाइन क्यों होता है, यह जानें | GK In Hindi General Knowledge : देश में हर दिन लाखों लोग ट्रेन से यात्रा करते हैं ! ट्रेन परिवहन का एक ऐसा साधन है ! जो सस्ता होने के साथ-साथ समय भी बचाता है ! लेकिन ट्रेनों से जुड़े कई ऐसे नियम हैं जिनके बारे में लोगों को जानकारी नहीं है ! दरअसल, ट्रेन के डिब्बों पर बने हर निशान का एक अलग मतलब होता है !

Train के डिब्बे पर बनी white और Yellow लाइन क्यों होता है, यह जानें | GK In Hindi General Knowledge

Train के डिब्बे पर बनी white और Yellow लाइन क्यों होता है

Train के डिब्बे पर बनी white और Yellow लाइन क्यों होता है

आपने कई बार ट्रेनों में सफर किया होगा और इस सफर के दौरान आपने रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों में कई तरह के निशान और नंबर भी देखे होंगे ! लेकिन जानकारी के अभाव में इसका मतलब पता नहीं चल पाता और ऐसी बातें अक्सर नजरअंदाज कर दी जाती हैं ! आपको बता दें, ये लाइनें ट्रेन पर डिजाइन बनाने के लिए नहीं बनाई जाती हैं, बल्कि इसके पीछे कई कारण हैं ! और ये रेखाएं एक ही रंग की नहीं होती हैं, बल्कि आप इन्हें दो या तीन रंगों में देख सकते हैं ! आइये आपको बताते हैं इन रेखाओं का रहस्य !

white और Yellow रेखाओं का क्या मतलब है?

ऐसे निशान आपको ट्रेन के कुछ ही डिब्बों पर देखने को मिलेंगे ! यह आपको टॉयलेट की खिड़की के ठीक ऊपर दिखेगा ! ये बिल्कुल दरवाजे के पास एक विकर्ण रेखा में बने होते हैं ! आज तक लोग सोचते होंगे कि यह डिज़ाइन ट्रेन की सजावट के लिए बनाया गया होगा, लेकिन ऐसा नहीं है !

इस निशान का अपना एक अलग ही मतलब होता है ! यह निशान दरअसल कंटेनरों की पहचान करने के लिए होता है ! अगर आपको पढ़ना नहीं आता तो आप इस सिंबल से ट्रेन के डिब्बों का पता लगा सकते हैं ! ये मार्किंग लाइनें जनरल कोचों की पहचान करने के लिए हैं, जिनमें आप बिना सीट रिजर्वेशन के यात्रा कर सकते हैं !

इसलिए बनाई जाती है सफेद धारियां

अगर आपको नीले रंग के कोच पर सफेद रंग की लाइन (Meaning of Lines ontrains) दिखे तो आपको समझ जाना चाहिए कि यह जनरल कोच है ! ऐसे कोच आमतौर पर ट्रेन के आगे और पीछे लगाए जाते हैं ! इन कोचों में वो लोग सफर करते हैं जिन्हें कन्फर्म सीट नहीं मिल पाती है !

Yellow रेखाओं का क्या मतलब है

यदि किसी नीले रंग के कोच के बाहरी किनारे पर पीले रंग की लाइन (Meaning of Lines ontrains) है ! तो इसका मतलब है कि उस कोच में विकलांग और बीमार लोग भी यात्रा कर सकते हैं ! ऐसे कोचों में विकलांगों और बीमारों के लिए सीटों और शौचालयों की विशेष सुविधाएं होती हैं !

Train के डिब्बे पर बनी white और Yellow लाइन क्यों होता है : ये खास बक्से इसी राज्य में बनाए जाते हैं

जिन नीले रंग के कोचों पर ऐसी लाइनें (Meaning of Lines ontrains) बनी होती हैं उन्हें इंटीग्रल कोच कहा जाता है ! ऐसे कोच तमिलनाडु के चेन्नई स्थित फैक्ट्री में बनाए जाते हैं ! इन कोचों को इंटीग्रल कोच कहा जाता है ! ऐसे नीले रंग के कोच वाली ज्यादातर ट्रेनें 70 से 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलती हैं !

जनरल और स्लीपर बोगी के बीच अंतर

दरअसल, अक्सर लोग जनरल और स्लीपर बोगी की पहचान नहीं कर पाते, क्योंकि दोनों डिब्बे एक जैसे दिखते हैं ! इसलिए जहां भी आपको डिब्बे पर ऐसी रेखाएं दिखें तो आप समझ जाएं कि यह जनरल डिब्बा है ! जनरल डिब्बे का टिकट शुल्क स्लीपर कोच की तुलना में कम है ! इसमें आप 50 से 60 रुपए में सफर कर सकते हैं !

ट्रेन की पटरी के किनारे क्यों लगे होते है बॉक्स, जानें कारण | GK In Hindi General Knowledge

स्पेस में तैरते क्यों रहते है एस्ट्रोनॉट गिरये क्यों नहीं, जानें कारण | GK In Hindi General Knowledge

टायर का रंग काला ही क्यों होता है, कोई और रंग क्यों नहीं | GK In Hindi General Knowledge

ATM Card में यह गोल्ड चिप क्यों लगी हुई होती है | GK In Hindi General Knowledge

गांव में चलने वाले टॉप 6 बिजनेस आईडिया Post Office में हर महीने 3,000 जमा करने पर 2 साल में मिलेगा रिटर्न शुरू करें ये बिजनेस, लागत से पांच गुना ज्यादा होगी कमाई 20000 हजार में शुरू करे धमाकेदार बिजनेस, होगी 1 लाख की कमाई Post Office की तगड़ी स्कीम 3 हजार रुपये जमा करें मिलेंगे 10 लाख